kahi ankahi

Just another weblog

66 Posts

4144 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5476 postid : 357

प्रेमिकाएं और डाक टिकट

Posted On: 30 Mar, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अपनी पुरानी डायरी में से आपके लिए कुछ हाज़िर कर रहा हूँ ! आशा है आपको पसंद आएगा !

ये प्रेमिकाएं बड़ी विकट होती हैं
बिल्कुल डाक टिकट होती हैं
क्योंकि जब ये सन्निकट होती हैं
तो आदमी की नीयत में थोडा सा इजाफा हो जाता है !
मगर जब ये चिपक जाती हैं तो
आदमी बिलकुल लिफाफा हो जाता है !!


सम्बन्धों के पानी से
या भावनाओं की गोंद से चिपकी हुई
जब ये साथ चल पड़ती हैं तो
अपने आप में हिस्ट्री बन जाती हैं !
जिंदगी के डाक खाने में उस लिफ़ाफ़े की
रजिस्ट्री बन जाती हैं !!


यूँ इनके साथ होने पर
लिफ़ाफ़े का अपना एक रंग होता है !
मगर जब ये नहीं होती हैं तो
लिफाफा बेरंग होता है !!


मेरी आप लोगों से विनती है , अरदास है , रिक्वेस्ट है
कि आप अपनी जिंदगी के लिफ़ाफ़े पर
किसी भी मूल्य का , किसी भी साइज़ या आकार का
डाक टिकट चिपकाइए ! मगर
ज़रा सलीके से लगाइये !!


कहीं ऐसा न हो इससे कहीं कोई
दुर्घटना घट जाए !
और कोई आपके लिफ़ाफ़े का डाक टिकट छुडाने लगे तो

कहीं लिफाफा ही न फट जाए !!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.86 out of 5)
Loading ... Loading ...

80 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

bdsingh के द्वारा
September 21, 2013

उपमा का अच्छा प्रयोग। डाक टिकट का असर लिफाफे पर। साथ  ही होशियार करना। एक अच्छी रचना।

seemakanwal के द्वारा
April 10, 2013

मजेदार रचना . बहुत बहुत आभार .

    yogi sarswat के द्वारा
    April 11, 2013

    बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सीमा कंवल जी ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

yamunapathak के द्वारा
April 8, 2013

योगी जी अंतिम पंक्तियाँ बेहद प्रतीकात्मक हैं. सुन्दर कविता साभार

    yogi sarswat के द्वारा
    April 8, 2013

    आभार आदरणीय यमुना जी , बहुत दिनों के बाद आपके दर्शन हुए हैं !

    Marsue के द्वारा
    October 17, 2016

    · pas bon, vous n&uvero;asqz pas accès à vote base de donnée, il faut éviter de faire ça, il faut installer WordPress vous même

Alka के द्वारा
April 6, 2013

आदरणीय योगी जी , सुन्दर शब्दों में पिरोकर रची गयी हास्य रचना , आपकी पुरानी डायरी के अनुभव काफी जबरजस्त है | बधाई ….

    yogi sarswat के द्वारा
    April 8, 2013

    बहुत बहुत आभार आदरणीय अलका जी ! मेरे शब्दों तक आने और अपने विचार रखने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ! सहयोग बनाये रखियेगा !

sudhajaiswal के द्वारा
April 4, 2013

आदरणीय योगी जी, सादर अभिवादन, बहुत ही सुन्दर हास्य कविता और उतनी ही सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई |

    yogi sarswat के द्वारा
    April 5, 2013

    बहुत बहुत आभार आपका आदरणीय सुधा जयसवाल जी , मेरे शब्द आप तक पहुंचे और आपका समर्थन हासिल करके आये ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

    Kaydence के द्वारा
    October 18, 2016

    I would do seated, I am doing buffet for my reception, but I don’t love the idea, The only reason to go with buffet in your case is if there arn81#e2&7;t enough waiters on an average 1 per table, just because guest end up waiting forever for there food otherwise.

Sushma Gupta के द्वारा
April 4, 2013

योगी जी , आपकी हास्य -रचना वेमिसाल है, इस रचना को लिखने का ख़याल आपको कहीं ‘पोस्ट-ऑफिस ‘ तक ‘प्रेमिका ‘ के पीछा करने पर तो नहीं आया ? जो भी हो , हमारी ओर से आपको बहुत -बहुत वधाई…

    yogi sarswat के द्वारा
    April 5, 2013

    आदरणीय सुषमा जी , सादर नमस्कार ! नहीं , घर बैठे बैठे ही ख्याल आ गया ! मेरे शब्दों तक आने औए आशीर्वाद प्रदान करने के लिए बहुत बहुत आभार ! सहयोग बनाये रखियेगा !

sudhajaiswal के द्वारा
April 4, 2013

आदरणीय योगी जी, सादर अभिवादन, बहुत ही सुन्दर हास्य कविता और उतनी ही सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बधाई |

    yogi sarswat के द्वारा
    April 5, 2013

    बहुत बहुत धन्यवाद आपका !

sudhajaiswal के द्वारा
April 4, 2013

आदरणीय योगी जी, सादर अभिवादन, सुन्दर हास्य कविता और उतनी ही सुन्दर प्रस्तुति | बहुत-बहुत बधाई |

    yogi sarswat के द्वारा
    April 5, 2013

    आभार आपका !

aman kumar के द्वारा
April 2, 2013

यूँ इनके साथ होने पर लिफ़ाफ़े का अपना एक रंग होता है ! मगर जब ये नहीं होती हैं तो लिफाफा बेरंग होता है !! मजा आ गया योगी भाई ! इतनी रोमांटिक हास्य कविता ……………..बस एक डर है कही इसे भाभी जी न पडले और कहीं लिफाफा ही न फट जाए !!………..मुबारक हो !

    yogi sarswat के द्वारा
    April 2, 2013

    आभार श्री अमन कुमार जी ! आपने मेरे शब्दों को सम्मान दिया ! आपकी भाभी जी ने तो ये कविता पढ़ी है लेकिन कहीं मेरी भाभी जे ने पढ़ लें , ये ध्यान रखियेगा ! सहयोग बनाये रखियेगा ! अतिशय धन्यवाद

Bhagwan Babu के द्वारा
April 2, 2013

जटिल धागो मे सुन्दर शब्दो के फूल लगाकर जो माला पिरोया है…. सुन्दर है… बधाई .. http://bhagwanbabu.jagranjunction.com/2013/03/25/%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%B6%E0%A4%BE%E0%A4%A8-%E0%A4%95%E0%A4%B9%E0%A4%A4%E0%A4%BE-%E0%A4%B9%E0%A5%88/

    yogi sarswat के द्वारा
    April 2, 2013

    बहुत बहुत आभार श्री भगवान बाबु जी , मेरे शब्द आपको पसंद आये ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

Shweta के द्वारा
April 1, 2013

क्या बात …. लिखने का अंदाज़ बड़ा ही निराला है …………..!!

    yogi sarswat के द्वारा
    April 2, 2013

    बहुत बहुत आभार आपका , मेरे शब्दों तक आने और समर्थन प्रदान करने के लिए ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

    Hawk के द्वारा
    October 18, 2016

    I like the treasured info you give in the posts.I will bookmark your web log and investigate all over again right here frq&1ently.Ie#82u7;m somewhat convinced I will learn a good deal of recent stuff appropriate here! Great luck with the future!

PRADEEP KUSHWAHA के द्वारा
April 1, 2013

कोई आपके लिफ़ाफ़े का डाक टिकट छुडाने लगे तो कहीं लिफाफा ही न फट जाए !! मुझे तो बगैर टिकट लगा लिफाफा मिला .. क्या करूँ आदरणीय योगी जी सादर अभिवादन के साथ बधाई.

    yogi sarswat के द्वारा
    April 2, 2013

    आदरणीय श्री प्रदीप कुशवाहा जी , आपका आशीर्वाद लगातार मिल रहा है जो न केवल उत्साह बढाता है वरन एक उर्जा भी प्रदान करता है ! बहुत बहुत आभार !

RAJEEV KUMAR JHA के द्वारा
April 1, 2013

क्या खूब तुलना है योगी जी। सम्बन्धों के पानी से या भावनाओं की गोंद से चिपकी हुई जब ये साथ चल पड़ती हैं तो अपने आप में हिस्ट्री बन जाती हैं ! बहुत सुन्दर .

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    आभार आपका आदरणीय श्री राजीव कुमार झा साब ! मेरे शब्दों को आपका समर्थन मिला ! धन्यवाद , सहयोग बनाये रखियेगा

March 31, 2013

बहुत ही खूबसूरत और मजेदार योगी जी , बधाई

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार श्री सिन्हा जी आपका ! मेरे शब्दों को आपका समर्थन मिला ! सहयोग बनाये रखियेगा ! अतिशय धन्यवाद

seemakanwal के द्वारा
March 31, 2013

बहुत खूब .होली मुबारक .

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आपका आदरणीय सीमा कंवल जी ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

vinitashukla के द्वारा
March 31, 2013

हास्य व्यंग्य का जोरदार तडका लगाया आपने इस रचना में. क्यों न लगे हाथों, प्रेमिका के साथ साथ, पत्नी की विशेषताएं भी बता डालें.

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आदरणीय विनीता शुक्ला जी ! इसके लिए अगले अंक का इंतज़ार करना पड़ेगा आपको ! बहुत बहुत धन्यवाद

surendra shukla bhramar5 के द्वारा
March 31, 2013

कहीं ऐसा न हो इससे कहीं कोई दुर्घटना घट जाए ! और कोई आपके लिफ़ाफ़े का डाक टिकट छुडाने लगे तो कहीं लिफाफा ही न फट जाए !! वाह भाई गुरूजी कमाल है पुरानी डायरी के पन्ने उस समय के जलवे का नजारा प्यारा प्यारा सुन्दर सन्देश bach के रहना रे बाबा .. haasy aanand se yukt bhramar 5

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद आपका !

surendra shukla bhramar5 के द्वारा
March 31, 2013

कहीं ऐसा न हो इससे कहीं कोई दुर्घटना घट जाए ! और कोई आपके लिफ़ाफ़े का डाक टिकट छुडाने लगे तो कहीं लिफाफा ही न फट जाए !! वाह भाई गुरूजी कमाल है पुरानी डायरी के पन्ने उस समय के जलवे का नजारा प्यारा प्यारा सुन्दर सन्देश बाख के रहना रे बाबा .. haasy aanand se yukt bhramar 5

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आपका श्री भ्रमर साब , आपको मेरे शब्द पसंद आये ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

bhanuprakashsharma के द्वारा
March 31, 2013

सुंदर रचना, बधाई। 

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    कमेन्ट स्पैम में चले जा रहे हैं श्री भानु जी ! बहुत बहुत आभार आपका

drvandnasharma के द्वारा
March 31, 2013

बहुत सुंदर कल्पना की है , बधाई

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद आपका आदरणीय डॉ. वंदना शर्मा जी ! सहयोग बनाये रखियेगा

bhanuprakashsharma के द्वारा
March 31, 2013

सुंदर रचना के लिए बधाई। 

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद

bhanuprakashsharma के द्वारा
March 31, 2013

sunder rachana badhai

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद आपका श्री भानु जी ! सहयोग बनाये रखियेगा

omdikshit के द्वारा
March 31, 2013

योगी जी ,नमस्कार. बहुत विकट होता है यह……प्रेम-टिकट ,बधाई.

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आपका !

Manoj Kumar Manjul के द्वारा
March 31, 2013

बहुत अच्छा योगी जी, क्या खूब लिखा है आपने एकदम सटीक लिखा है।….. बहुत बधाई।

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद ! आपको मेरे शब्द पसंद आये

Manoj Kumar Manjul के द्वारा
March 31, 2013

वाह बहुत खूब, बहुत अच्छा अपनी प्रेमिका के लिए।—- बधाई हो।

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत स्वागत है आपका श्री मंजुल जी ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

omdikshit के द्वारा
March 31, 2013

बहुत विकट है आप का यह …..प्रेम-टिकट.बधाई.

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद श्री ओम दीक्षित जी ! सहयोग बनाये रखियेगा !

harirawat के द्वारा
March 30, 2013

अति सुन्दर !

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद !

harirawat के द्वारा
March 30, 2013

क्या कमाल किया है योगीजी , आपने प्रेमिका पर डाक टिकट चिपका कर एक मुसीबत मोल लेली, लगता है होली के रंग में रंग कर भंग ज़रा ज्यादा पी ली है, अब जरा संभल कर रहना क़यामत आने वाली है, प्रेमिका ने बिगुल बजा दिया है सवारी आने वाली है ! अति सुन्दर हरेंद्रसिंह रावत

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    आभार श्री रावत जी !

harirawat के द्वारा
March 30, 2013

वाह क्या खूब योगीजी ! आपने प्रेमिका पर डाक टिकट चिपका कर एक नयी मुसीबत मोल ले ली है, लगता है होली के रंग में रंग कर भंग ज़रा ज्यादा पी ली है, अभी भी संभल जाओ मेरे यार क़यामत आने वाली है, प्रेमिका का बिगुल बज गया अब सवारी आने वाली है ! हरेंद्रसिंह रावत

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत सुन्दर और खिलखिलाती प्रतिक्रिया के लिए आपका बहुत बहुत आभार श्री रावत जी ! सहयोग बनाये रखियेगा ! अतिशय धन्यवाद

yatindrapandey के द्वारा
March 30, 2013

हैलो योगी जी बहुत दिनों बाद कुछ अच्छा और खुशनुमा पढ़ा दिल खुस हुआ क्या बात है

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    धन्यवाद श्री यतीन्द्र पाण्डेय जी ! सहयोग बनाये रखियेगा

Malik Parveen के द्वारा
March 30, 2013

वाह योगी जी क्या खूबियाँ बताई आपने प्रेमिका की :) :) :) बहुत बहुत बढ़िया लगी … बधाई हो !

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आदरणीय परवीन मलिक जी ! संवाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
March 30, 2013

बहुत ही अच्छा भाई योगी जी, आप तो योगी होते हुए भी सांसारिकता अच्छा ज्ञान रखते हैं ! बधाई !!

    nishamittal के द्वारा
    March 31, 2013

    योगी जी सहमत हूँ आचार्य जी से

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आदरणीय श्री आचार्य जी ! सहयोग बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत आभार आदरणीया निशा जी मित्तल ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा , धन्यवाद

ashvinikumar के द्वारा
March 30, 2013

भाई ये क्या हो रहा है कमेन्ट करो तो दिखाई ही नाही पद रहा है माड्रेशन चालू आहे क्या ….जय भारत

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    तकनीकी खराबी है श्री अश्विनी कुमार जी ! धन्यवाद आपका मेरे ब्लॉग तक आने के लिए ! स्वागत है , आते रहिएगा

ashvinikumar के द्वारा
March 30, 2013

जनाब जनाब जनाब क्या कहने ,,,फेविकोल वाला गाना यहाँ पे वेल्ड कर दिया …………..जय भारत

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    ये सब श्री जवाहर सिंह जी की महिमा है अश्विनी कुमार जी ! कब कहाँ क्या चपका दें , कुछ पता नहीं !

jlsingh के द्वारा
March 30, 2013

आदरणीय योगी जी, सादर अभिवादन! क्या जोड़ा है आपने डाक टिकट को गोंद से भैया, अब तो जमाना है चिपका लो… फेविकोल से यूँ इनके साथ होने पर लिफ़ाफ़े का अपना एक रंग होता है ! मगर जब ये नहीं होती हैं तो लिफाफा बेरंग होता है !! बिना अनुभव के कैसे मालूम? योगी जी, आप हर जगह ही होते है ये है मुझको मालूम! बहुत बहुत बधाई! ऐसी रचनाएँ! डायरी से निकल कर बाहर आनी चाहिए!

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    मेरे शब्दों को अपने गज़ब के अंदाज़ में सराहना करने और अपना आशीर्वाद बनाये रखने के लिए आपका बहुत बहुत आभार आदरणीय श्री जवाहर सिंह जी !

आर.एन. शाही के द्वारा
March 30, 2013

अमूल्य कृति योगी जी । बड़ा सही प्रतीक फ़िट किया है । वैसे किसी भी मूल्य, आकार प्रकार के टिकट की बजाय आदमी डाक विभाग से बल्क डिस्पैच वाली डीलिंग कर ले तो उसके लिये कल्याणकारी होगा । न चिपकाने की झंझट, न ही किसी के उजाड़ने का भय । बस टिकट का प्रतीकात्मक स्टाम्प लगाइये, और बेफ़िक्र होकर किसी के हाथ से भी भिजवा दीजिये । सील मोहर दुरुस्त डेलीवरी होगी । क्यों ? हा हा हा हा

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    आपकी सलाह पर अवश्य गौर किया जाएगा आदरणीय श्री शाही जी , हहहाआआ ! गुदगुदाती सार्थक प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा

A kumar के द्वारा
March 30, 2013

बहुत खूब तुलना करी है योगी जी

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत धन्यवाद आपका कुमार साब

    yogi sarswat के द्वारा
    April 1, 2013

    बहुत बहुत धन्यवाद श्री कुमार साब


topic of the week



latest from jagran