kahi ankahi

Just another weblog

66 Posts

4144 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5476 postid : 760253

दिस इस यमराज कॉलिंग फ्रॉम ………

Posted On: 30 Jun, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

संडे था ! सोचा था देर तक सोऊंगा ! लेकिन पता नहीं सबको मेरी तरह नींद क्यों नहीं आती , 7 बजे होंगे किसी ने मोबाइल बजा दिया ! लम्बा हाथ करके मोबाइल उठाया और हैल्लो करी तो उधर से अंग्रेजी में आवाज़ आई – कैन आई स्पीक टू मिस्टर योगी सारस्वत ? मैंने भी अंग्रेजी में ही बोल दिया – याह ! स्पीकिंग ! तब तक वो दोबारा बोल गया – दिस इस यमराज कॉलिंग फ्रॉम ……….. ! कौन यमराज ? यार मेरी नींद मत खराब करो ! मैं किसी यमराज को नहीं जानता ! और मैंने फोन काट दिया ! फ़ोन फिर घनघनाया ! मैंने दो बार तो नहीं उठाया , लेकिन जब वो लगातार बजता रहा तो उठा ही लिया !


हाँ – बोल भाई !


सर दिस इस यमराज कॉलिंग फ्रॉम …………………. !


यार बता भाई युवराज ! कौन सा युवराज बोल रहा है ? इंडियन टीम वाला , मेरे कॉलेज वाला या वो कोने वाला ? कौन सा युवराज ? नो सर ! दिस इज़ यमराज , नॉट युवराज ! भाई देख तू अब मेरा दिमाग मत खराब कर सुबह सुबह ! एक तो तूने मेरी नींद खराब कर दी और अब ये बेसिर पैर की बातें कर रहा है ! कौन है तू और क्या चाहता है ? जल्दी बता , मुझे अभी और सोना है ! और हाँ , हिंदी में बोल ! मुझे हिंदी आती है !

ओके ! सर ! मैं यमराज बोल रहा हूँ !

मेरा दिमाग झन्ना गया – अबे यार बता न कौन बोल रहा है ! नहीं तो मैं अब फोन काट दूंगा !

नो सर, प्लीज ! आप मेरी बात तो सुन लीजिये पहले ! सर मैं यमराज ही बोल रहा हूँ स्वर्ग से ! आपका टिकेट कन्फर्म हो गया है स्वर्ग का !

यार मेरा कौन सा टिकेट कन्फर्म हो गया है ? मैंने तो कोई टिकेट कराया ही नहीं ? फिर तूने कैसे कन्फर्म कर दिया ? अबे पागल समझा है क्या ? और कहाँ का कन्फर्म कर दिया स्वर्ग का ? अबे ऐसे मैं कौन कश्मीर जाने बैठा है ! बच्चो के स्कूल खुलने वाले हैं , तू पागल तो नहीं है कहीं ? मेरा कोई टिकेट विकेट नहीं है , कैंसिल कर दे अगर कर दिया है तो ! अब सो जाऊं ?

अरे सर ! हमें आना है आपको लेने के लिए ! आप तैयार रहिये ! आपके लिए सीट तैयार करी जा रही है !


अबे तुम बिलकुल ही पागल हो क्या ? गजब करते हो यार ! मैंने टिकेट लिया नहीं , मुझे मालुम नही कि मुझे कहीं जाना भी है और तुम हो कि कह रहे हो कि तुम मुझे लेने आ रहे हो ? तुम्हारे बाप का राज है क्या ? और जाने आने और दुसरे खर्च के पैसे कौन देगा , तुम्हारा फूफा ?


नहीं सर ! बाप और फूफा की कोई बात नहीं है ! आपको लाने के लिए न हमें पैसों की जरुरत है न आपको ! सब फ्री हो जाता है , मजे मजे में ! बस आप तैयार रहिये !


ओह ! तो ऐसे कहो न ! मेरा कोई ऑफर होगा ! मतलब मैंने कुछ जीता होगा , दो या तीन रात का फ्री ? ऐसा कुछ न ! चलो बताओ कब चलना है ? मैं फिर छुट्टियां डाल देता हूँ कॉलेज में !

नहीं सर ! अब आपको छुट्टियां लेने की कोई जरुरत नहीं !

सही कह रहे हो बेटा ! तुम हमारे बॉस को जानते नहीं हो ! चलो ठीक है , मुझे बता देना कब चलना है ! ओके ! और हाँ यार , ये नाम बदल लो ! यमराज ! ये कोई नाम है ? इससे तो युवराज ही कर लो !


सर मेरा यही नाम है ! आप मुझे अब भी पहिचान नहीं पा रहे ! मैं असली यमराज हूँ !

फिर मजाक !

नहीं सर ! आप कहो तो आपको आपकी पिछली जिंदगी का सब कुछ बता देता हूँ , तब तो आप मानोगे कि मैं असली यमराज हूँ ! और हकीकत में उसने सब बयान कर दिया ! दिल बैठ गया !
क्या -तुम सचमुच के यमराज हो ?


रुको ,एक मिनट !

फ़ोन बंद किया ! नंबर देखा ! अरे भगवान ! ये 50 डिजिट का नम्बर ! ये तो सच में ही यमराज है ! कॉल बैक करी – आवाज़ आई ! ये इस दुनियां का नम्बर नहीं है , कृपया नंबर जांच लें ! अब तो मैं पसीना पसीना !

इतनी देर में फिर उसका फोन आ गया !
ओह ! तो तुम मेरी सच्चाई पता कर रहे थे ! मैं कोई स्पेशल 26 का नकली सीबीआई अफसर नहीं हूँ ! तैयार रहना ! हम जल्दी ही आएंगे !


अरे सुनो तो भाई ! एक बात तो बताओ ! माना तुम यमराज हो , लेकिन यमराज तो सिर्फ संस्कृत या हिंदी बोलते हैं तुम अंग्रेजी क्यों बोल रहे हो ?

अब क्या है कि हिंदुस्तान में भी बहुत से लोगों को हिंदी या संस्कृत समझ में नही आती इसलिए हमारे यहां ये सिखाया जाता है कि भारत में भी अंग्रेजी से शुरुआत करो ! अब हमारे यहां भी 90 दिनों में अंग्रेजी सीखें वाले कोर्स चल रहे हैं !

हम्म्म !

और तुम ये फोन करके इन्फॉर्म कबसे करने लगे ?

ये भी जरुरी हो गया है अब ! होता क्या है कि अब बिना नंबर के बहुत से लोग अपना टिकेट काट लेते हैं , उनसे हमारा रजिस्टर मैंटेन करना मुश्किल हो जाता है इसलिए हम पहले से इन्फोम कर देते हैं जिससे सही आदमी सही जगह पर जाए !

हम्म्म्म !

अब तुम तैयार रहना !


अरे यार , सुनो तो ! सुनो ! कुछ ले दे के काम चल जाए तो ठीक है न ?

क्या ?

यार मेरी जगह कहीं और से उठा ले ! ले दे के मामला सुलझा ले यार ! अभी देखियो मुझे बहुत सारे ब्लॉग लिखने हैं यार ! जो तेरा बनता हो , मैं दे दूंगा !

उसने थोड़ी देर सोचा ! फिर बोला ! हाँ यार ! तेरे ब्लॉग तो मैं भी पढता हूँ , बढ़िया लिखता है ! चल तुझे थोड़ा टाइम और देता हूँ ! लेकिन मेरे लिए तुझे एक ब्लॉग लिखना पड़ेगा !

पक्का ! जरूर लिखूंगा !

लेकिन यार तेरी जगह किसका टिकेट कन्फर्म करूँ ? मुश्किल हो रही है !

मैंने धीरे से फुसफुसाया – ईराक से देख ले , मेरे जैसा एक आध तो मिल ही जाएगा !

अरे , हाँ ! सही आईडिया दिया तूने ! चल फिर ऐश कर ! मजे मार ! बाय

बाय ! धन्यवाद यमराज भाई ! बहुत बहुत धन्यवाद ……………. तेरी वजह से मुझे …………।

अबे अब चुप कर , मुझे भी रुलाएगा क्या ! चल मजे कर ! मैं ईराक निकलता हूँ अपना टारगेट पूरा करने !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

28 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ranjanagupta के द्वारा
July 8, 2014

योगी जी !बहुत बहुत बधाई !इतना मजेदार ब्लाग लिखनेके लिए !बहुत आनन्द आया ,इतने टेंशन में आज की दुनिया है बहुत जरुरी है कि हँसने की कोशिश जारी रखी जाये !सादर !साभार !!

    yogi sarswat के द्वारा
    July 10, 2014

    बहुत बहुत आभार रंजना जी , मेरे शब्द आप तक पहुंचे और आपका समर्थन लेकर आये ! संवाद बनाये रखियेगा ! अतिशय धन्यवाद

sadguruji के द्वारा
July 7, 2014

आदरणीय योगी जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! बहुत बहुत बधाई ! आपकी रचना बहुत रोचक और होंठो पर मुस्कान लाने वाली है ! संतजन कहते हैं कि जो मृत्यु का उपहास उड़ा सके,वहो सच्चा योगी है ! बहुत दिनों के बाद आपने इस मंच पर कुछ लिखा है और सबके मन को गुदगुदाया भी है ! आप इस मंच पर सबको आपस में जोड़ने वाली एक कड़ी भी हैं ! आपने ने भी महसूस किया होगा कि अब पहले की तरह से किसी भी पोस्ट के लिए सौ डेढ़ सौ कमेंट नहीं होते हैं,क्योंकि बहुत से साहित्यकार मंच छोड़ चुके हैं ! उन्हें रोकने के लिए इस मंच के संचालकों के द्वारा कोई गंभीर प्रयास भी नहीं किया गया ! ये मंच अभी भी अपने पुराने घिसे-पिटे ढर्रे पर ही चल रहा है,जबकि समय के साथ-साथ इसमें कुछ ऐसा परिवर्तन होना चाहिए था,जो मंच छोड़कर जाने वालों को इस मंच के साथ बांधे रखने में सफल होता ! अब भी यदि इस पर गंभीरता से विचार नहीं किया गया तो रचनाओं पर कमेंट करने वाले नहीं मिलेंगे और बिना कमेंट के रचनाओं का परिमार्जन और श्रृंगार अधूरा है ! आप महीने में कम से कम दो पोस्ट तो इस मंच पर लिखिए ! अपनी हार्दिक शुभकामनाओं सहित !

    yogi sarswat के द्वारा
    July 8, 2014

    आदरणीय श्री सद्गुरु जी , सादर अभिनन्दन ! आपने दुखती रग को छेड़ दिया ! आपने बिलकुल सही कहा की ज्यादातर पुराने लोग , जिनके लेख और कविताएं इस मंच की जान और शान हुआ करती थीं , आज इस मंच पर या तो दीखते नहीं हैं या फिर यदा कदा दीखते हैं ! इससे नए लिखने वालों को बहुत नुक्सान होता है , एक तो उन्हें मार्गदर्शन नहीं मिल पाटा और निश्चित रूप से हौसला अफ़ज़ाई भी नहीं हो पाती , लेकिन इसके लिए बहुत हद तक जागरण ही जिम्मेदार है जिसने गणमान्य लेखकों , ब्लॉगरों की बात पर कभी कान नहीं दिए ! आपकी चिंता , मेरी भी चिंता है ! इसी मंच ने मुझे एक प्लेटफार्म , एक थोड़ी सी पहिचान दी है ! उम्मीद है सब पहले जैसा होगा , हालाँकि आसरा बहुत काम है ! मेरे शब्दों तक आने और हौसलाफजाई के लिए आपका हार्दिक अभिनन्दन श्री सद्गुरु जी !

    Lyndee के द्वारा
    October 17, 2016

    Aneta / Mój wynik – 18 kg w trzy miesiÄ…ce. Bez gÅ‚odówki, bez morderczego treningu, poprawiÅ‚am stan swojego organizmu – nie mówiÄ…c już o saiozocpucmu Szczerze polecam każdemu!

Shobha के द्वारा
July 6, 2014

सारस्वत जी यमराज को आगे ले कर बहुत अच्छा व्यंग है परन्तु इराक में बहुत ताकतवर खलीफा बगदादी विलेन पहले से मौजूद है शोभा

    yogi sarswat के द्वारा
    July 7, 2014

    आपने भी बहुत सही बात कही आदरणीय शोभा जी ! बहुत बहुत आभार आपका ! सवाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

yamunapathak के द्वारा
July 6, 2014

मस्त ब्लॉग है योगीजी

    yogi sarswat के द्वारा
    July 7, 2014

    बहुत बहुत आभार आदरणीय यमुना जी ! संवाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

harirawat के द्वारा
July 6, 2014

वाह योगी जी, कल एक आदमी यमराज के चंगुल से छूट के आया ! दोस्तों ने पूछा यार तू कैसे छूट कर आगया, उसने बताया, भैया कमाल ही हो गया, “यम राज ने जैसे ही हम चार लोगों को अपने भैस से नीचे उतारा, उसी समय उसके मोबायल की घंटी टनटना उठी, ‘आपके लिए सारस्वत जी का बड़ा मजेदार ब्लाग आया है, जल्दी कम्प्यूटर रूम में आजाओ ‘! यमराज चटकारे मार मार कर ब्लॉग पढने में मगन होगया और हम पतली गली से निकल कर आगए ! बहुत मजेदार ब्यंग है सारस्वत जी ! मैंने अपने एज ग्रुप वालों को सुनाया उनकी हंसी अभी तक नहीं रुक रही है !

    yogi sarswat के द्वारा
    July 7, 2014

    गज़ब का जोक सूना दिया आपने तो आदरणीय श्री रावत जी ! ये मेरे लिए बहुत प्रेरणा का विषय है की आपके संगी साथी मेरे शब्दों का लुत्फ़ ले रहे हैं , मेरा हिरदय से आभार कहियेगा उन्हें और आपके लिए विशेष रूप से आभार ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा ! बहुत बहुत धन्यवाद

jlsingh के द्वारा
July 3, 2014

आदरणीय योगी जी, सादर अभिवादन! बहुत ही रोचक, मनोरंजक शैली में लिखा गया आपका आलेख इस तनाव के माहौल में बड़ा ही उपयुक्त रहा .. बहुत बहुत बधाई! कृपया लिखते रहें! जे जे पर भी …

    yogi sarswat के द्वारा
    July 4, 2014

    बहुत बहुत आभार आदरणीय श्री जवाहर सिंह जी ! मेरे शब्द अगर आपके या किसी और के तनाव को काम कर पाएं तो ये मेरा सौभाग्य होगा ! हौसलाफजाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! अवश्य लिंखुन्गा !

DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
July 1, 2014

iraak me bahut se log blog likhte hongen kahin unhonne INDIA ka address de diya to hamara number bhi aa sakta hai …..rochak post .

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    हिंदुस्तान में इस आदमी नाम के प्राणी की कोई कमी नहीं है शिखा जी ! आभार आपका

    Johnie के द्वारा
    October 17, 2016

    Shiver me timbers, them’s some great inroomatifn.

pkdubey के द्वारा
July 1, 2014

बहुत सही भाई .हार्दिक बधाई.

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    बहुत बहुत आभार श्री दुबे जी ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
June 30, 2014

 चि. सारस्वत जी ,बहुत दिनों बाद इतनी रोचक और हास्य से सरावोर पोस्ट पढने को मिली ,लिखते रहिये ,हार्दिक बधाई आपको .

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    आभार आदरणीय निर्मला जी ! संवाद बनाये रखियेगा

anilkumar के द्वारा
June 30, 2014

वाह वाह योगी जी , क्या बात है । योगी ही यमराज को साध सकते हैं । बहुत अच्छा व्यंग लेखन ।  बहुत बहुत बधाई ।

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    बहुत बहुत आभार आदरणीय श्री अनिल कुमार जी ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

nishamittal के द्वारा
June 30, 2014

वाह वाह योगी जी आखिर यमराज भी मान गये आपके ब्लॉग के कमाल को बधाई बहुत सुन्दर

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    बहुत बहुत आभार आदरणीय निशा जी मित्तल ! आशीर्वाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद

deepak pande के द्वारा
June 30, 2014

waah yogi jee bahut khoob aakhir आपने अपने लेखन से यमराज को भी prabhawit kar दिए बहुत उम्दा हास्य lekhan

    yogi sarswat के द्वारा
    July 3, 2014

    बहुत बहुत आभार श्री दीपक पाण्डेजी ! संवाद बनाये रखियेगा ! धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran